biology in hindi cover

Biology in Hindi

Biology in Hindi आर्टिकल में हम बायोलॉजी के मुख्य शाखाओ के बारे में जानेंगे। उसके आलावा biology के कुछ सिद्वांतो के बारे में और बायोलॉजी के क्षेत्रों की प्रगति के बारे में जानेंगे।

Biology meaning in Hindi : बायोलॉजी एक विज्ञान का एक क्षेत्र हे जिसे हिंदी में जिव विज्ञानं कहते हे। बायोलॉजी एक ऐसा विषय हे जो हमें दुनिया में रहने वाले प्राणी , जीवजंतु और सुष्म जीवजंतु की बनावट , उनके कार्य , उनकी उन्नति (evolution), उनका विकास(development) ,और वो एक दूसरे को किस तरह से प्रभावित करते हे, इसके बारे में जानकारी देता हे।

(बायोलॉजी का फुल फॉर्म) Biology शब्द ग्रीक शब्द में से उत्पन होकर आया हे जिसमे दो शब्द जुड़े हुए हे। जो हे bios (यानि की जीवन) और logos (यानि की study)। (जीव विज्ञान की परिभाषा) जीवित प्राणी और जीवो की स्टडी को Biology कहते हे जिसमे पेड़ और पौधे और सुष्मजीवजन्तु भी शामिल हे। (जीव विज्ञान के जनक कौन है?) ग्रीस के ख्यातनाम दार्शनिक एरिस्टोटल को FATHER OF BIOLOGY माना जाता हे।

Biology in Hindi कोई विज्ञान का कोई छोटा विषय नहीं हे। Biology विज्ञानं के अनेक क्षेत्र के साथ जुड़ा हुआ हे। जैसे Biochemistry/जीव रसायन(Biology + chemistry), biophysics/जीव पदाथ-विद्य(Biology + physics), stratigraphy/जीव भूगोल-शास्त्र(Biology + geography), astrobiology/जिव खगोल-विज्ञान(Biology + astronomy) विज्ञान के क्षेत्र जिव विज्ञानं के साथ जुड़े हुए हे।

1. Main branches of Biology in Hindi :

बायोलॉजी की कितनी शाखाएं हैं ? : जीव विज्ञान के कितने प्रकार?

Biology in Hindi में वैसे तो कई शाखाए हे लेकिन मुख्य शाखाए 3 हे। जीव विज्ञान की शाखाओं के नाम Zoology ,Botany, और तीसरा Microbiology हे।

1. Zoology – जन्तु विज्ञान :

Biology in Hindi में zoology महत्वपूर्ण शाखा हे। Zoology भी दो शब्दों से जुड़ा हुआ हे। Zoo और logos, जिसका मतलब होता हे जंतु या प्राणी का अध्ययन। ग्रीस देश के दार्शनिक Aristotle ने zoology और प्राणिओ के वर्गीकरण के ऊपर एक Book लिखी। जिसमे पहली बार प्राणिओ का उनके के बर्ताव , स्वभाव और उनके शारीरिक ढांचे के अनुसार वर्गीकरण किया गया। इसलिए और Aristotle को Father of zoology(जन्तु विज्ञान का पिता) कहा जाता हे।

 zoology - biology in Hindi
zoology

1543 में Andreas Vesalius ने मानव शरीर रचना विज्ञान के बारे में कित्ताब प्रकाशित की। किताब का नाम था “De Humani Corporis Fabrica“। ये किताब मानव शरीर के विच्छेदन(शरीर की काट-कटाई ) के ऊपर आधारित थी।

अभी zoology प्राणिओ के रूप और उनके कार्य , उनके सम्बन्धो के बिच की अनुकूलता , एक दूसरे के प्रति व्यव्हार वगैरह को स्टडी कर रहा हे। 1953 में फ्रांसिस क्रिक(Francis Crick) और जेम्स वाटसन(James Watson) द्वारा DNA अणु की अनुक्रमण के साथ, आज का जिव विज्ञानं पहले के दौर से ज़्यादा आगे बढ़ रहा हे। जिससे molecular biology (आणविक जिव विज्ञान), cell biology(कोशिका जीव विज्ञान) में काफी प्रगति हुई हे।

आज की zoology कई सारे विषयो में विभाजित हो गयी हे जैसे प्राणिओ का वर्गीकरण(classification) , उनका शरीर क्रिया विज्ञान(physiology), जीव रसायन(biochemistry), क्रमागत उन्नति (evolution) ।

2. botany – वनस्पति विज्ञान :

botany meaning in hindi : Botany यानि की पेड़ और पोधो के जीवन की स्टडी। एक ऐसा विज्ञान जिसमे पेड़ और पोधो की रचना उनके कार्य के बारे में रीसर्च की जाती हे। जिनमे algae(शैवाल), fungi(कवक), lichens(लाइकेन), mosses(काई), ferns(फ़र्न), conifers(कोनिफ़र),और फूल वाले पौधे को भी शामिल किया जाता हे।

जो पेड़ और पौधे के जीवन के बारे में रीसर्च करते हे उसे botanist कहते हे। ये ऐसे वैज्ञानिक हे जिन्होंने इस तरह की स्टडी में मास्टरी की हुई होती हे। आज के समय में botanist लगभग 410,000 जितने पौधे की जातियो का अभ्यास करते हे जिसमे से लगभग 369,000 जातिआ फूलो की हे।

botany को विज्ञान की सबसे पुरानी शाखा हे क्युकी इसकी शुरुआत लिखित इतिहास के पहले के समय से ही हो चुकी थी। उस समय में botanist पेड़ और पोधो की जाँच, पेड़ और पौधों को पहचान के लिए , उसे काट कर खाने के लिए , उसमे से औषधि बनाने के लिए और विषालु वनस्पति के बारे में पता लगाने के लिए की जाती थी।

19वी और 20वी सदी में नयी नयी तकनीक पोधो को स्टडी करने के लिए अपनायी गयी। इसमें ऑप्टिकल माइक्रोस्कोपी और लाइव सेल इमेजिंग, इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी, क्रोमोसोम संख्या का विश्लेषण, पौधे रसायन शास्त्र और एंजाइमों और अन्य प्रोटीन की संरचना और कार्य के तरीकों सहित कई तरह की तकनीक का उपयोग किया गया। जिसमे पोधो के पत्ते या फुल के नमूने को माइक्रोस्कोप के निचे रखकर रिजल्ट का विश्लेषण किया जाता हे।

simple microscope
simple microscope
Compound microscope
Compound microscope
Electron Microscope
Electron Microscope

botany के सभी संशोधन की वजह से हमें आधुनिक बागवानी, कृषि और वानिकी, पौधों के प्रसार, प्रजनन और आनुवंशिक संशोधन, निर्माण और ऊर्जा उत्पादन के लिए रसायनों और कच्चे माल के संश्लेषण में, पर्यावरण प्रबंधन में मुख्य खाद्य पदार्थ, लकड़ी, तेल, रबर, फाइबर और दवाओं जैसी सामग्री मिलती हे। इसलिए ये भी पता चलता हे की पेड़ो का महत्व हमारे जीवन में कितना हे।

सार्वजनिक स्वास्थ्य और पर्यावरण संरक्षण पेशेवर प्रदूषण की समस्याओं को हल करने में मदद करने के लिए भी वनस्पति विज्ञान की अपनी समझ पर निर्भर करते हैं।

3. Microbiology – सूक्ष्म जीव विज्ञान :

Microbiology meaning in hindi : Microbiology यानि सुष्मजीवो की स्टडी। ये भी एक विज्ञानं का बहुत बड़ा क्षेत्र हे। क्यूंकि सुष्मजीव हमारे आसपास हे , हमारे ऊपर हे , हमारे अंदर भी हे , और हमें प्रत्यक्ष और परोक्ष तरीके से प्रभावित करते हे। 1 gm मिटटी में लगभग 4 करोड़ जीवाणु और 1 ml पानी में 10 लाख जीवाणु होते हे। यानि की वो हर जगह हे और हमें असर करते हे।

Microbiology in biology in Hindi
Microbiology in biology in Hindi

सुष्म जिव एक कोषीय और बहु कोषीय होते हे। और जिसे हम हमारी नग्न आंखों से नहीं देख सकते हे। इसलिए उसपर संशोधन करने के लिए माइक्रोस्कोप का उपयोग किया जाता हे। सुष्मजीवो में bacteria बेक्टेरिआ , cavak कवक ,Fungi फंगी , virus वायरस जिन सबको Microbes भी कहते हे उनका समावेश होता हे।

Microbiologists (जो इन सुष्म जीवो की स्टडी करते हे वैसे वैज्ञानिक) इन सुष्मजीवो से पेड़ , इंसान , और प्राणिओ पर होनेवाले असर के बारे में संशोधन करते रहते हे। इसके आलावा इंसानो में इन सुष्मजीवो से होने वाले कई रोगो के बारे में भी रिसर्च करते हे जिससे उन रोगो की सारवार कर सके।

Microbiology के इतिहास की बात करे तो सबसे पहले 1958 में Athanasius Kircher ने दूध और सड़ी हुई सामग्री में सुष्मजीवो का निरिक्षण किया। (सूक्ष्म जीव विज्ञान के जनक कौन है) Antonie van Leeuwenhoek को Father of Microbiology माने जाते हे क्यूंकि उन्होंने सबसे पहले 1970 में खुदके ही बनाये हुए माइक्रोस्कोप से सुष्मजीवो को निरिक्षण और प्रयोग किया। वैज्ञानिक सूक्ष्म जीव विज्ञान का विकास 19वीं शताब्दी में Louis Pasteur और चिकित्सा सूक्ष्म जीव विज्ञान Robert Koch के काम से हुआ।

इतने छोटे से जिव की स्टडी हमारा जीवन आसान कैसे बना सकती हे ? देखिये Microbiology के क्षेत्र में नयी नयी रिसर्च होती रहती हे और इसकी वजह से दूध और दूध की चीज़े बनाने में , विटामिन एमिनो एसिड, और सप्लीमेंट बनाने में microbiology ही काम आता हे। इसके आलावा दवाई बनाने में ,नूट्रियन सायक्लोन , जीव संक्रमण , पर्यावरण परिवर्तन (climate change), भोजन का नुकशान घटाने में Food science and technology में , बीमारी और रोग के उपचार के लिए microbiology महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता हे।

Food science and technology के बारे में मेने एक विस्तृत आर्टिकल लिखा जिसे आप ज़रूर पढ़े।

इतना ही नहीं माइक्रोबायोलॉजी की स्टडी का उपयोग मेडिकल इंडस्ट्री में , फ़ूड इंडस्ट्री में , एग्रीकल्चर इंडस्ट्री में , फार्मा इंडस्ट्री में और पर्यावरण जैसे हर एक क्षेत्र में होता हे।

microbiology lab in biology in hindi
microbiology lab

अगर आपको भी इस क्षेत्र में रूचि हे तो आप Microbiology courses में स्टडी कर सकते हे।

iske bare me info ke liye Career india ka ye article zarur padhe : Microbiology courses

2. Principles of Biology in Hindi :

जीव विज्ञान सिद्धांत :

जीव विज्ञान की नींव आज जिस रूप में मौजूद है वो पांच बुनियादी सिद्धांतों पर आधारित है। वे कोशिका सिद्धांत (cell theory), विकास(Evolution), जीन सिद्धांत(gene theory), होमोस्टैसिस(homeostasis)और थर्मोडायनामिक्स के नियम(laws of thermodynamics) हैं।

  1. Cell theory : सभी जीवित जीव कोशिकाओं से बने होते हैं। कोशिका जीवन की मूल आधार है।
  2. Gene theory : जीन सिद्धांत यह सिद्धांत है कि सभी जीवित चीजों में डीएनए, अणु होते हैं जो कोशिकाओं की संरचनाओं और कार्यों को कोड करते हैं और संतानों को पारित हो जाते हैं।
  3. Homeostasis : होमोस्टैसिस यह सिद्धांत है कि सभी जीवित चीजें संतुलन की स्थिति बनाए रखती हैं जो जीवों को अपने पर्यावरण में जीवित रहने में सक्षम बनाती हैं।
  4. Evolution : जनसंख्या में कोई आनुवंशिक परिवर्तन जो कई पीढ़ियों से विरासत में मिला है। ये बदलाव छोटे या बड़े हो सकते हैं, जिन्हें आसानी से देखा भी जा सकता है और नहीं भी ।
  5. Thermodynamics : ऊर्जा स्थिर है और ऊर्जा परिवर्तन पूरी तरह से कुशल नहीं है।

3. Many areas of Biology in Hindi :

Biology के व्यापक क्षेत्रों के भीतर, कई Biologist किसी विशिष्ट विषय या समस्या पर शोध करने में विशेषज्ञ होते हैं जीव विज्ञान की कई शाखाएँ और उप-विषय हैं, लेकिन यहाँ कुछ अधिक व्यापक क्षेत्रों की एक छोटी सूची है जो जीव विज्ञान की छत्रछाया में आते हैं : जीव विज्ञान के क्षेत्र में Biochemistry , Genetics , Physiology, Ecology जैसे क्षेत्र को शामिल किया जाता हे ।

  • Biochemistry : बायोकैमिस्ट्री का मतलब , जीवित चीजों में होने वाली या उनसे संबंधित रासायनिक प्रक्रियाओं का अध्ययन। उदाहरण के लिए, औषध विज्ञान एक प्रकार का जैव रसायन अनुसंधान है जो यह अध्ययन करने पर केंद्रित है कि दवाएं शरीर में रसायनों के साथ कैसे परस्पर क्रिया करती हैं।
Biochemistry in biology in Hindi
Biochemistry
  • Genetics : Genetics में वैज्ञानिक अध्ययन करते हैं कि माता-पिता द्वारा उनकी संतानों को Gene कैसे पारित किए जाते हैं, और वे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में कैसे भिन्न होते हैं। उदाहरण के लिए, वैज्ञानिकों ने कई Gene और आनुवंशिक उत्परिवर्तन की पहचान की है जो मानव जीवन को प्रभावित करते हैं ।
Genetics in biology in hindi
Genetics
  • Physiology ; जीवित चीजें कैसे काम करती हैं इसका अध्ययन। प्रकृति के अनुसार, शरीर क्रिया विज्ञान, जो किसी भी जीवित जीव पर लागू होता है, “जीवित जीवों या उनके अंगों के जीवन-सहायक कार्यों और प्रक्रियाओं से संबंधित है।” फिजियोलॉजिस्ट जैविक प्रक्रियाओं को समझना चाहते हैं, जैसे कि एक विशेष अंग कैसे काम करता है, इसका कार्य क्या है और यह बाहरी उत्तेजनाओं से कैसे प्रभावित होता है। उदाहरण के लिए, शरीर विज्ञानियों ने अध्ययन किया है कि कैसे संगीत सुनने से मानव शरीर में शारीरिक परिवर्तन हो सकते हैं, जैसे कि धीमी या तेज हृदय गति।
Physiology in biology in hindi
Physiology
  • Ecology : जीव अपने पर्यावरण के साथ कैसे संभंधित होते हैं इसका अध्ययन। उदाहरण के लिए, इस क्षेत्र में वैज्ञानिक यह अध्ययन कर सकता है कि आस-पास रहने वाले मनुष्यों द्वारा मधुमक्खी का व्यवहार कैसे प्रभावित होता है।

4.Multidisciplinary nature of biology in Hindi :

जीव विज्ञान की बहुविषयक प्रकृति :

गणित, इंजीनियरिंग और सामाजिक विज्ञान सहित अध्ययन के अन्य क्षेत्रों के साथ अक्सर जीव विज्ञान पर शोध कि जाती है। आइये जानते हे ऐसे क्षेत्र के बारे में :

  1. Bioengineering : बायोइंजीनियरिंग जीव विज्ञान के लिए इंजीनियरिंग सिद्धांतों का अनुप्रयोग है, उदाहरण के लिए, एक बायोइंजीनियर एक नई चिकित्सा तकनीक विकसित कर सकता है जो शरीर के अंदर की छवियों को बेहतर बनाता है, जैसे एक बेहतर MRI Machine जो मानव शरीर को तेज दर और उच्च रिज़ॉल्यूशन पर स्कैन करता है, या जैविक लागू करता है कृत्रिम अंग बनाने का ज्ञान।
  2. Biophysics : बायोफिज़िक्स भौतिकी के सिद्धांतों को यह समझने के लिए नियोजित करता है कि जैविक प्रणालियाँ कैसे काम करती हैं। उदाहरण के लिए, बायोफिजिसिस्ट अध्ययन कर सकते हैं कि प्रोटीन संरचना में परिवर्तन के लिए अनुवांशिक उत्परिवर्तन प्रोटीन विकास को कैसे प्रभावित करते हैं।
  3. Astrobiology : एस्ट्रोबायोलॉजी ब्रह्मांड में जीवन के विकास का अध्ययन है, जिसमें अलौकिक जीवन की खोज भी शामिल है। इस क्षेत्र में खगोल विज्ञान के साथ जीव विज्ञान के सिद्धांत शामिल हैं।
  4. Bio archaeologists : जैव पुरातत्वविद जीवविज्ञानी हैं जो कंकाल अवशेषों का अध्ययन करने के लिए पुरातात्विक तकनीकों को शामिल करते हैं और पता लगते है के लोग आदिवासी के समय में कैसे जीते थे।

5. Application of modern biology in Hindi :

आधुनिक जीव विज्ञान का उपयोग :

Biology आज के समयमें काफी तरक्की कर चूका हे। और कई सारी शाखाओ में बट चूका हे। नयी नयी रिसर्च होती रहती हे जिसके कारण आजके इंसान को बीमारी से बचने के लिए और प्राणिओ को ख़तम होने से बचाने के लिए भी बायोलॉजी जरुरत बन गयी हे । जिससे आप समझ सकते हे की जीव विज्ञान का महत्व कितना हे ।

  • Agriculture : Biology ke उपयोग से आजके समय में hybridization और Genetic तकनीक से अच्छे किस्म के बीज पैदा किये जाते हे। जिसकी वजह से ऐसे पौधे पैदा किये जा रहे हे जो हमारी जरुरत के मुताबिक हो। जैसे की ऐसे बीज का उत्पादन करना जो ज़्यादा से ज़्यादा फल और अनाज पैदा कर सके और खुदको काफी हद तक जन्तुमुक्त रख सके। और नयी नयी जंतुनाशक दवाइए बनाई जा यही हे जिससे फल ,अनाज और अब्जी के उत्पादन को बढ़ाया जा सके।
  • Medicine : Biology की वजह से नए नए रोग जैसे के Coronavirus जैसे गंभीर रोगो से लोगो को बचाने के लिए वैक्सीन और दवाइआ बनायीं जाती हे। MRI जैसे आधुनिक मशीन शरीर की गतिविधि को जानने के लिए बनाये जाते हे। बायोलॉजी की रीसर्च की वजह से ऑपरेशन वः सर्जरी करना आसान हुआ हे।
  • Space science : जीवों को विभिन्न चयापचय प्रक्रियाओं को कैसे अंजाम दिया जाता है, इसका पता लगाने के लिए सुष्मजीवो को बाहरी अंतरिक्ष में ले जाया जाता है । चंद्रमा की खोज के समय अंतरिक्ष यात्री Green algae chlorella (शैवाल) को अंतरिक्ष यांन में साथ में ले गए थे। प्रकाश संश्लेषण के दौरान, शैवाल ऑक्सीजन छोड़ते हैं जिसका उपयोग अंतरिक्ष यात्री द्वारा श्वसन के लिए किया जाता था । Dried chlorella ka उपयोग अंतरिक्ष यात्री के खाने के रूप में भी किया गया।
  • Other field : और भी कई सारे बायोलॉजी के क्षेत्र और कई सारी इंडस्ट्री में काम आती हे जैसे Forensic science, oceanography , Biotechnology वगैरह। ऊर्जा का दूसरा तरीका अपनाने के लिए जैसे सड़े हुए कचरे में से बायोगैस बनाके उसका उपयोग खाना बनाने और रौशनी के लिए करना।

अब अपने समझ लिया होगा की क्यों बायोलॉजी हमारे जीवन में इतना महत्व रखता हे। क्यूंकि वो हमें प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण करना सिखाता हे। और हमारे जीवन को बेहतर बनाता हे, क्युकी विज्ञानं का ये विषय हर तरह से हमसे जुड़ा हुआ हे।

तो केसा लगा आर्टिकल ? कमेंट करके ज़रूर बताये। मिलते हे विज्ञानं के नए topic के साथ। थैंक क्यू

12वि बायोलॉजी के बाद करियर विकल्प, 99 Amazing facts about dogs in Hindi , नासा क्यूरियोसिटी रोवर ने भेजी 2022 में मंगल ग्रह से फुल की तस्वीर

Leave a Reply

Your email address will not be published.